भारत के राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश (States and Union Territories of India)

 भारत के राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश

भारत के राज्य
States of india

india-map-update
india-map-update

हिमाचल

इसकी राजधानी शिमला है।

25 जनवरी 1971 को हिमाचल प्रदेश को पूर्ण राज्य का दर्जा प्राप्त हुआ।

यहां से व्यास व चिनाब नदियों का उद्गम होता है।

यहां पर रोहतांग व शिपकी ला दर्रे स्थित है।

राजस्थान का जिला दर्शन 👉 click here
राजस्थान का भूगोल 👉 click here
राजस्थान का इतिहास 👉 click here
Rajasthan Gk Telegram channel 👉 click here

उतराखण्ड

इसकी राजधानी देहरादून है।

9 नवंबर 2000 को यह भारत का 27 वां राज्य बना।

यह राज्य फुलो की घाटियो के लिए जाना जाता है।

अनेक तीर्थस्थलो के कारण इसे देवभूमि कहा जाता है।

उतर प्रदेश

इसकी राजधानी लखनउ है।

24 जनवरी 1950 को सयुंक्त प्रांत का नाम उतर प्रदेश रखा गया।

इसके कुल 75 जिले है।

गंगा व यमुना के संगम पर प्रयागराज में प्रत्येक 12 वर्ष के बाद महाकुंभ का आयोजन किया जाता है।

बिहार

इसकी राजधानी पटना है।

यहां स्थित नालंदा विश्वविद्यालय के प्राचीन अवशेषो को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर में शामिल किया गया है।

31 मार्च 1936 को इसकी स्थापना की गई।

कोसी नदी को बिहार का शोक कहा जाता है। इस पर नेपाल सरकार के सहयोग से हनुमान नगर बैराज की स्थापना की गई है।

पश्चिम बंगाल

इसकी राजधानी कोलकता है।

दामोदर नदी को बंगाल का शोक कहा जाता था।

बंगाल को जूट/पटसन उत्पादन के लिए जाना जाता है।

यहां स्थित सुन्दरवन डेल्टा भारत का जैव मण्डल रिजर्व क्षेत्र है।

सिक्किम

इसकी राजधानी गंगटोक है।

1975 में यह भारत का अभिन्न अंग बना।

यह भारत का पहला पूर्ण जैविक राज्य है।

यह भारत का न्यूनतम जनसंख्या वाला राज्य है। (6.11 लाख)

इसकी सीमा केवल एक राज्य प. बंगाल से लगती है।

यह भारत का पूर्णतः निर्मल/स्वच्छ राज्य है।

असम

इसकी राजधानी दिसपुर है।

यहां स्थित काजीरंगा नेशनल पार्क एक सींग वाले गेंडे के लिए प्रसिद्ध है।

यहां स्थित मानस अभ्यारण्य भारत का सर्वाधिक जैव विविधता वाला अभ्यारण्य है, जो रॉयल बंगाल टाइगर के लिए प्रसिद्ध है।

इसे पूर्वोतर राज्यो का प्रवेश द्वार व पूर्वोतर भारत का प्रहरी कहा जाता है।

यहां पर ब्रह्मपुत्र नदी में माजुली नदी द्वीप है जो भारत का एकमात्र नदी जिला है।

अरूणाचल

इसकी राजधानी इटानगर है।

20 फरवरी 1987 को इसे पूर्ण राज्य का दर्जा प्रदान किया गया।

पहले इसे नेफा(नोर्थ इस्ट फ्रंटियर एंजेंसी) के नाम से जाना जाता था।

ब्रह्मपुत्र को यहां देहांग के नाम से जाना जाता है, जो यहां से नामचा बार्वा नामक स्थान से प्रवेश करती है।

नागालैण्ड

इसकी राजधानी कोहिमा है।

यहां पर स्लैश एंड बर्न खेती प्रसिद्ध है, जिसे स्थानीय भाषा में झूम खेती कहा जाता है।

यहां पर पर्यटन को बढावा देने के लिए दिसंबर माह के पहले सप्ताह में हार्नबिल उत्सव का आयोजन किया जाता है।

मणिपुर

इसकी राजधानी इम्फाल है।

मणिपुर के उखरूल जिले में स्थित सिरोई पर्वतमाला में सिरोई लिली नामक दुर्लभ पौधा पाया जाता है।

यहां से बराक नदी का उद्गम होता है।

इसमे घाटी को चावल का कटोरा कहा जाता है।

मिजोरम

इसकी राजधानी आइजोल है।

राज्य के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल के 88.93% भू भाग पर वन पाए जाते है, जो देश में सबसे अधिक है।

यह राज्य म्यांमार तथा बांग्लादेश के मध्य होने के कारण सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है।

यह कर्क रेखा पर स्थित भारत का अंतिम राज्य है।

त्रिपुरा

इसकी राजधानी अगरतला है।

यह तीन ओर से बांग्लादेश से घिरा हुआ है।

यह तीन तरफ से अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला भारत का एकमात्र राज्य है।

मेघालय

इसकी राजधानी शिलांग है।

इसकी सीमा भारत के केवल एक राज्य असम से लगती है।

यहां पर गारो, खासी व जयंतिया आदिवासी समुदाय निवास करते है।

विश्व के सर्वाधिक वर्षा वाले स्थान मासिनराम व चेरापूंजी भी यहीं पर है।

उड़ीसा

इसकी राजधानी भूवनेश्वर है।

महानदी पर यहां देश की सबसे लम्बी बांध परियोजना हीराकुण्ड स्थित है।

उत्कल के मैदान यहां पर पाए जाते है।

व्हीलर द्वीप/अब्दुल कलाम द्वीप मिसाइल परीक्षणो के कारण चर्चा में रहता है।

चिल्का झील भारतीय नौसेना का प्रशिक्षण स्थल है।

आन्ध्र प्रदेश

इसकी वर्तमान राजधानी हैदराबाद तथा प्रस्तावित

राजधानी अमरावती है।

जुलाई 2013 में तेलांगाना को आन्ध्रप्रदेश से पृथक घोषित कर दिया गया।

सतीश धवन अन्तरिक्ष केन्द्र, श्रीहरिकोटा में स्थित है।

इसे भारत का धान का कटोरा कहा जाता है।

तमिलनाडू

इसकी राजधानी चैन्नई है।

जनवरी में यहां फसल कटाई पर पोंगल त्यौहार मनाया जाता है।

यहां का अलंगनल्लूर जल्लीकट्टू के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है।

लौटते हुए मानसून की सर्वाधिक वर्षा चैन्नई तट पर होती है।

केरल

इसकी राजधानी तिरूवनंतपुरम है।

भारत में मानसून सबसे पहले केरल के मालाबार तट से टकराता है।

मानसून की पहली वर्षा यहां पर आम्र वर्षा अथवा पीली वर्षा कहलाती है।

यहां से थोरियम खनिज प्रचुर मात्रा में प्राप्त होता है।

यह देश का पहला डिजीटल राज्य है तथा इसके सभी गांवो में विद्युतीकरण किया जा चुका है।

कर्नाटक

इसकी राजधानी बेंगलुरू है।

यहां पर बाबा बूदन की पहाड़ी व कुन्द्रेमुख नामक चोटियां लौह अयस्क का भण्डार है।

यहां पाई जाने वाली काली लेटेराइट मिट्टी मसाले व कहवा के लिए उपयुक्त है।

जोग गरसप्पा/महात्मा गांधी जलप्रपात जो कि भारत का सबसे उंचा जलप्रपात है, यहां शरावती नदी पर स्थित है।

गोवा

इसकी राजधानी पणजी है।

यह भारत का सबसे समृद्ध राज्य है।

यह भारत का सर्वाधिक नगरीकृत तथा न्यूनतम ग्रामीण जनसख्या वाला राज्य है।

महाराष्ट्र

इसकी राजधानी मुम्बई है।

यहां भारत की सर्वोच्च किस्म की कपास का उत्पादन होता है।

यहां स्थित कालसुबाई चोटी उतरी सहयाद्री की सबसे उंची चोटी है।

मुम्बई में स्थित ज्वाहरलाल नेहरू बन्दरगाह भारत का सबसे ज्यादा जलीय व्यापार वाला बन्दरगाह है।

गुजरात

इसकी राजधानी गांधीनगर है।

गुजरात स्टेच्यु ऑफ यूनीटी के लिए जाना जाता है, जो विश्व की सबसे उंची मुर्ति है।

नर्मदा नदी पर स्थित सरदार सरोवर परियोजना से भारत का सबसे बड़ा कमान क्षेत्र विकसित किया जा रहा है।

यहां भारत की सर्वाधिक ज्वारीय उर्जा प्राप्त की जाती है।

राजस्थान

इसकी राजधानी जयपुर है।

यह खनिजो का अजायबघर कहलाता है।

अरावली इसे पश्चिमी मरूस्थल से अलग करती है।

यहां मरूद्भिद वनस्पति पाई जाती है।

पंजाब

इसकी राजधानी चंडीगढ़ है।

इसमें तीन नदियां रावी, सतलज व व्यास प्रवाहित होती है।

यह भारत का सर्वाधिक सिंचित राज्य है।

यहां पर सबसे लम्बे समय के लिए मानसून रूकता है।

हरियाणा

इसकी राजधानी चंडीगढ़ है।

यह राज्य रेह अथवा कल्लर भूमि की समस्या से ग्रसित है।

यह सबसे कम लिंगानुपात वाला राज्य है।

मध्यप्रदेश

इसकी राजधानी भोपाल है।

इसका अधिकांश क्षेत्र वृष्टि छाया प्रदेश के अन्तर्गत आने के कारण प्रतिवर्ष अकाल की चपेट में आता है।

यहां स्थित पंचमढी मध्य भारत का स्वास्थय वर्धक स्थल है।

झारखण्ड

इसकी राजधानी रांची है।

यहां से देश के सबसे अधिक खनिज खनन किए जाते है।

यहां के घाटशिला में भारत के प्रथम ताम्बा प्रगलन संयंत्र की स्थापना की गई।

यहां स्थित छोटा नागपुर के पठार को भारत का रूर कहा जाता है।

छतीसगढ़

इसकी राजधानी रायपुर है।

यहां पर बघेलखण्ड का पठार स्थित है।

प्राचीन काल में इसे दक्षिण कोसल के नाम से जाना जाता था।

इसकी सीमा देश के सात राज्यों से स्पर्श करती है।

तेलंगाना

इसकी राजधानी हैदराबाद है।

2 जून, 2014 को आंध्र प्रदेश से अलग होकर यह भारत का 29वां राज्य बना।

गोदावरी नदी यहां उर्मिल के मैदानो का निर्माण करती है।

भारत के केन्द्र शासित प्रदेश
Union Territories of India

केन्द्र-शासित-प्रदेश-update
केन्द्र-शासित-प्रदेश-update


जम्मु कश्मीर

5 अगस्त 2019 को इसे विधानसभा सहित केन्द्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया।

यह विधेयक 31 अक्टुबर 2019 को लागु हो गया।

लद्दाख

इसमें दो बड़े शहर लद्दाख व कारगिल है।

यह भारत का सबसे बड़ा केन्द्र शासित प्रदेश है।

यह बिना विधानसभा का केन्द्र शासित प्रदेश है।

यहां कराकोरम दर्रा स्थित है।

अण्डमान व निकोबार

1857 से 1942 तक इस क्षेत्र का उपयोग भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों को आजीवन कारावास (सेल्युलर जेल) की सजा देने के लिए किया जाता था। जिसे काला पानी कहते थे।

इस पर 1 जैव संरक्षित क्षेत्र, 9 राष्ट्रीय पार्क व 96 अभ्यारण्य स्थित है।

ग्रेट निकोबार को यूनेस्को द्वारा 2013 में अन्तर्राष्ट्रीय जैव मण्डल रिजर्व क्षेत्र घोषित किया गया है।

लक्ष्यद्वीप

यह प्रवाल द्वीपो का एक समुह है।

1956 में इसके 11 आबादी वाले द्वीपो को मिलाकर केन्द्र शासित प्रदेश बनाया गया, जिसे 1973 में लक्ष्यद्वीप नाम मिला।

इसके बंगारूद्वीप पर भेल(BHEL) द्वारा देश की सबसे बड़ी सौर उर्जा परियोजाना स्थापित की गई।

पुदुचेरी

इसमे पाण्डिचेरी, कराईकल, यनम व माहे नामक जिले शामिल है।

इस पर पहले फ्रांसीसियो का अधिकार था, जिसे 1954 में केन्द्र शासित प्रदेश बनाया गया।

नेहरू ने इसे फ्रेंच संस्कृति की खिड़की कहा है।

चण्डीगढ

इसे 1 नवंबर 1966 को केन्द्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया।

यह हरियाणा तथा पंजाब दोनो की राजधानी है।

फ्रांसीसी वास्तुशिल्पी ला काबूसिए गरा द्वारा इस शहर को बनाया गया।

सुखना झील से इसे जलापुर्ति होती है।

दिल्ली

11 वीं सदी में तोमर वंशीय शासक अनंगपाल ने दिल्ली की स्थापना की थी।

12 दिसंबर 1911 को इसे राजधानी बनाया गया।

1956 में इसे केन्द्र शासित प्रदेश बनाया गया।

दादर व नागर हवेली और दमन दीव

इसकी राजधानी दमन होगी।

3 दिसंबर 2019 को विधेयक पारित किया गया।

दमन व दीव 1546 से 1961 तक पुर्तगालीयो के अधीन था, जिसे 1961 में भारत का अभिन्न हिस्सा बना लिया गया।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,373FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles