Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831
तेजाजी,देवनारायण जी, वीर कल्लाजी, मल्लीनाथ जी, हडबुजी(Rajasthan Ke Lok devta Tejaji, Devnarayan Ji, Veer Kallaji, Mallinath Ji, Hadbuji) - gk website
Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831
Home Uncategorized तेजाजी,देवनारायण जी, वीर कल्लाजी, मल्लीनाथ जी, हडबुजी(Rajasthan Ke Lok devta Tejaji, Devnarayan...

तेजाजी,देवनारायण जी, वीर कल्लाजी, मल्लीनाथ जी, हडबुजी(Rajasthan Ke Lok devta Tejaji, Devnarayan Ji, Veer Kallaji, Mallinath Ji, Hadbuji)

0
483

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

राजस्थान के लोक देवता
Rajasthan ke Lok Devta

Tejaji-Veer-kallaji-DevnarayanJi
Tejaji-Veer-kallaji-DevnarayanJi

 तेजाजी 
(Tejaji)

❇️ इनका जन्म सन् 1074 को नागौर जिले की परबतसर तहसील के खरनाल में हुआ था । पिता का नाम ताहड़ जी (नागवंशीय जाट) व माता का नाम राज कुंवर (रामकुंवरी) था । पत्नी का नाम पेमल दे था । (ये अजमेर जिले के पनेर निवासी रायमल जी झांझर की पुत्री थी। 

राजस्थान का जिला दर्शन 👉 click here
राजस्थान का भूगोल 👉 click here
राजस्थान का इतिहास 👉 click here
Rajasthan Gk Telegram channel 👉 click here 

❇️ तेजाजी को गायों के मुक्ति दाता तथा सांपों के देवता के रूप में पूजा जाता है । इन्होने लाछा गुजरी (हीरा गुजरी) की गायों को पनेर के मीणाओं से छुड़ाया था । 
❇️ तेजाजी के पूजा स्थल को थान कहा जाता है । तेजाजी के भोपे को घोडला कहा जाता है । 
❇️ तेजाजी के प्रतीक के रूप में तलवार धारी घुडसवार योद्धा तथा सर्प उकेरा हुआ मूर्ति तथा जीभ को सर्पदंश करते हुए दिखाया जाता है । तेजाजी को कृषि कार्यो का उपकारक देवता तथा काला और बाला का देवता कहा जाता है। तेजाजी की एक घोडी थी जिसका नाम लीलण था । जाटों में तेजाजी की सर्वाधिक मान्यता है । 
नोट :- रामराज नाहटा ने तेजाजी के जीवन पर राजस्थानी भाषा में वीर तेजाजी नामक फिल्म बनाई है । 
तेजाजी के प्रमुख मन्दिर 
❇️ सेन्दरिया :- ब्यावर अजमेर में स्थित है । 
❇️ ब्यावर में ।
❇️ भावता – अजमेर जिले में स्थित है । इस स्थान पर सुरसरा से जोत मंगवाकर यहां तेजाजी की संगमरमर की मूर्ति स्थापित की गई है । 
❇️ सुरसरा :- इस स्थान पर तेजाजी को नाग ने डसा था । जबकि उनकी मृत्यु सेन्दिरया (अजमेर) नामक स्थान पर हुई थी ।


देवनारायण जी 
(Devnarayan Ji)

❇️ जन्म माघ शुक्ल 6 सम्वत् 1243 को भीलवाड़ा जिले के आसीन्द कस्बे के समीप मालसेरी नामक गाँव में हुआ।

❇️ देवनारायण जी के बचपन का नाम उदय सिंह था । 

❇️ पिता का नाम सवाईभोज (बगड़ावत या नागवंशीय गुर्जर) था, तथा माता का नाम सेडू या सोढ़ी (ये देवास मध्यप्रदेश की निवासी) था। इनकी शिक्षा देवास में हुई ।

❇️ इनका विवाह धार (मध्यप्रदेश) के शासक जयसिंह की पुत्री पीपल दे के साथ हुआ । 

❇️ इनके भाई का नाम महेन्दू था । 

❇️ गुर्जर जाती इन्हे विष्णु का अवतार मानती है । इनकी घोड़ी का नाम लीला था ।

❇️ देवनारायण की फड़ गुर्जर भोपों द्वारा जन्तर वाद्ययंत्र के साथ करते है । इनकी फड़ जर्मनी के संग्रहालय में सुशोभित है। 

❇️ देवनारायण जी ने गर्जर जाती को भिनाय के राणा को मारकर कष्टों से छुटकारा दिलाया था । 

❇️ गुर्जर जाती देवनारायण जी को अपना लोकदेवता मानती है । 

❇️ देवनारायण जी की मृत्यु अजमेर जिले के ब्यावर कस्बे के देवमाली नामक स्थान पर हुई । 

नोट :- सन् 1992 में देवनारायण की फड़ पर डाक टिकट जारी किया गया । 

प्रमुख मन्दिर 

❇️ देवमाली (अजमेर) 

❇️ देवधाम जोधपूरिया (टोंक) (बनास, मांशी और बांड़ी के त्रिवेणी संगम पर) 

❇️ सवाई भोज मन्दिर – आसीन्द (भीलवाड़ा) 

सर्वाधिक लोकप्रिय फड़ :- पाबूजी । (सर्वाधिक पूरानी फड़) 

सर्वाधिक लम्बी फड़ :- देवनारायण जी । 

बिना वाद्ययंत्र की सहायता से वाची जाने वाली फड़ :- रामदला-कृष्णदला की फड़

वीर कल्लाजी 
(Veer Kallaji)

❇️ इनका जन्म 1601 में मेड़ता में हुआ । इनके पिता का नाम आस सिंह राठौड़ व इनकी बुआ का नाम मीरा बाई था ।

❇️ माना जाता है कि इनकी पाँच वर्ष की उम्र में भैरव से साक्षात्कार हुआ । इन्हे सिद्धियां तथा जड़ी-बूटियों का ज्ञान प्राप्त था । 

❇️ कल्ला जी को चार हाथों वाले तथा दो सिर वाले लोकदेवता के रूप में माना जाता है ।

❇️ जब 24 फरवरी 1568 को चित्तौड़गढ़ दुर्ग पर अकबर के आक्रमण के दौरान कल्लाजी ने जयमल को अपने कंधों पर बिठाकर युद्ध किया । अकबर ने इन्हे चार हाथों वाला देवता कहा । 
❇️ कल्लाजी को शेषनाग के अवतार के रूप में पूजा जाता है । 
❇️ मेवाड़ तथा बांगड़ क्षेत्र के साथ-साथ गुजरात, मध्यप्रदेश तथा मालवा क्षेत्र में भी इनकी पूजा की जाती है । 
❇️ इनका मुख्य मन्दिर चित्तौड़गढ़ दुर्ग में भैरव पोल के पास स्थित है । 
❇️ डूंगरपुर के सामलिया नामक स्थान पर इनकी काले पत्थर की प्रतिमा स्थित है । 
❇️ वीर कल्लाजी को कल्लाजी केहर, कमगज, योगी, बाल ब्रह्मचारी, कमधण तथा कल्याण के नाम से भी जाना जाता है।

❇️ प्रतिवर्ष श्रावण शुक्ल अष्टमी को इनका मेला चित्तौड़गढ़ में आयोजित होता है । इनकी मुख्य पीठ रनेला में है ।


मल्लीनाथ जी 
(Mallinath Ji)

❇️ इनका जन्म 1358 में जोधपुर (मारवाड़) में हुआ इनके पिता का नाम राव सलखा था व माता का नाम जीणी दे था। कान्हड़दे इनके ताऊ थे । इन्होने 1378 मे फिरोजशाह तुगलक तथा मालवा के सुबेदार निजामुद्दीन की सम्मिलित सेनाओं को पराजित किया तथा लोगों की सेना से रक्षा की । जिसके लिये मारवाड़ में निम्न कहावत प्रसिद्ध है – “तेरह तुंगा भांगिया, मोल सलखाणी’ । 

❇️ मारवाड़ क्षेत्र में इन्हे त्राता (रक्षक) के रूप में पूजा जाता है । 
❇️ मल्लीनाथ जी ने अपनी रानी रूपादे की प्रेरणा से 1389 ईस्वी में उगमसी भाटी से योगसाधना की दीक्षा ग्रहण की थी। 
❇️ मल्लीनाथ जी की समाधि बाडमेर जिले के तिलवाड़ा नामक स्थान पर लूनी नदी के तट पर स्थित है । 
❇️ मल्लीनाथ जी सिद्ध पुरूष शूरवीर तथा चमत्कारिक योद्धा के रूप में पूजे जाते थे ।

हडबुजी
(Hadbuji) 

❇️ हड़बुजी का जन्म नागौर जिले के भूण्डेल नामक स्थान पर सांखला के यहां हुआ । 
❇️ हडबुजी परम शूरवीर, योगी, वचनसिद्ध, शकुन शास्त्र के ज्ञाता एवं समाज सुधारक थे । 
❇️ हडबुजी ने रामदेवजी की प्रेरणा पर शस्त्र त्याग कर योगी बाली नाथ जी से शिक्षा ग्रहण की थी । 
❇️ जोधपुर जिले में फलौदी के पास वेंगटी नामक स्थान पर हड़बुजी का मन्दिर स्थित है । इस मन्दिर का निर्माण 1721 में जोधपुर के तत्कालीन शासक अजीत सिंह द्वारा करवाया गया । 
❇️ हड़बुजी के पूजारी सांखला राजपूत होते है । हड़बुजी का वाहन सियार होता है । 
❇️ हडबुजी बाबा रामदेव जी के मौसेरे भाई थे । मारवाड़ के पंचपीरों में से हडबुजी भी एक थे ।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here


Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831