Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831
(प्रमुख विभूतियाँ, स्वाधीनता सैनानी, शहीद : एक नजर) (Pramukh Vibhutiya, Svadhinata Sainani, Shahid : Ek Najar) - gk website
Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

(प्रमुख विभूतियाँ, स्वाधीनता सैनानी, शहीद : एक नजर) (Pramukh Vibhutiya, Svadhinata Sainani, Shahid : Ek Najar)

प्रमुख-स्वतंत्रता-सेनानी
प्रमुख-स्वतंत्रता-सेनानी

प्रमुख विभूतियाँ, स्वाधीनता सैनानी, शहीद : एक नजर
(Pramukh Vibhutiya, Svadhinata Sainani, Shahid : Ek Najar)
(Key personalities, freedom fighters, martyrs: a look)

Telegram channal Join 👉 Click Here 👈

Rajasthan all jila darshan 👉 click here 👈
Rajasthan Bhugol 👉 click here 👈

✔️ जयपुर में 9 सितम्बर 1980 को जन्मे हीरालाल शास्त्री को राज्य में उग्र क्रान्ति का जनक माना जाता है। 1907 में इन्होंने वर्धमान स्कुल की स्थापना की यहां क्रान्तिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाता था । माणकचन्द, मोतीचन्द, प्रताप सिंह बारहठ जैसे क्रान्तिकारीयों ने इसी स्कुल में शिक्षा प्राप्त की थी ।
हीरालाल शास्त्री (Heeralal Shastri) more information 👉 click here
✔️ देशप्रेम के कारण इन्होने सरकारी नौकरी छोड़ दी थी, तथा कहा कि यदि अर्जुन नौकरी करेगा तो इन अंग्रेजों को देश से बाहर निकालने का काम कौन करेगा । इन्होने मेरठ कांड के आरोपी उस्मानी व काकोरी कांड़ के फरार आरोपी अश्फाक उल्ला खाँ को शरण दी थी । इन्हे इनकी अंतिम इच्छानुसार इनका दाह संस्कार नही किया गया था, बल्कि दफनाया गया था । इनकी मृत्यु पर पण्डित सुन्दर लाल का कथन है “दधिची जैसा त्याग और दृढ़ता लेकर जन्मे थे और इसी के साथ उसे गले लगाया”
✔️ जैसलमेर निवासी सागरमल गोपा ने 1915 में सर्वहित कारिणी वाचनालय की स्थापना की । इन्होने महारावल जवाहर सिंह के अत्याचारों से पेरशान होकर नागपुर में जैसलमेर में गुण्डाराज नामक पुस्तक प्रकाशित की । जैल में थानेदार गुमान सिंह द्वारा इन्हे भीष्ण यातनाएं दी गई । 3 अप्रेल 1946 को इन्हे जैल में जिन्दा जला दिया गया । इनकी मृत्यु के कारणों की जाँच हेतु गोपाल स्वरूप पाठक आयोग गठित किया गया जिसमें इनकी मृत्यु को आत्म हत्या करार दिया । इन्होने “आजादी के दीवाने” नामक पुस्तक भी लिखी ।
सागरमल गोपा (Sagaramal Gopa) more details 👉 click here
✔️ जोबनेर, जयपुर निवासी हीरा लाल शास्त्री ने 1936 में निवाई (टोंक) शांता बाई शिक्षा कुटीर की स्थापना की । वर्तमान में वनस्थली विद्यापीठ के नाम से जाना जाता है । यह संस्था पुरी तरह से महिला शिक्षा को समर्पित है । जवाहर लाल नेहरू ने इस सम्बन्ध में कहा है कि “काश में एक बालिका होता तो अपनी तालिम के लिये वनस्थली विद्यापीठ ही आता” । यह राज्य के प्रथम मनोनीत मुख्यमंत्री भी रहे । इन्होने अपनी आत्मकथा “प्रत्यक्ष जीवनशास्त्र” नाम से लिखी है । इनके द्वारा लिखा गया गीत “प्रलय प्रतिक्षा नमो नमो” अत्यन्त ही लोकप्रिय रहा है । इनकी पत्नी का नाम रत्ना शास्त्री था ।
✔️ 18 फरवरी 1899 को जोधपुर जिले में जन्मे जयनारायण व्यास को शेर ए राजस्थान, लोकनायक, लक्कड एवं कक्कड. मास्साब एवं धुन का धनी उपनाम से जाना जाता है । सन् 1936 में इन्होने मुम्बई से अखण्ड भारत दैनिक समाचार पत्र प्रकाशित किया । इन्होने राजस्थानी भाषा का प्रथम राजनैतिक समाचार पत्र आगीबाण एवं अंग्रेजी पत्रिका “पीप” का भी सम्पादन किया । इन्ही के सद् प्रयत्नों से मारवाड़ लोक परिषद ने मारवाड़ की अवस्था एवं पोपाबाई की पोल पुस्तिकाओं का प्रकाशन सम्भव हो पाया था । इन्होने मारवाड़ में उत्तरदायी शासन नामक पुस्तक भी लिखी । सन्

1951 से 1954 तक ये राज्य के मुख्यमंत्री भी रहे । सन् 1963 को इनका निधन हो गया ।

जयनारायण व्यास (JaiNarayan Vyas) More details 👉 click here

✔️ रूठी रानी, दुर्गादास चरित्र, प्रताप चरित्र, राजसिंह चरित्र एवं चेतावणी रा चुगटिंयाँ के लेखक केसरी सिंह बारहठ का जन्म 21 नवम्बर 1872 को भीलवाड़ा के शाहपुरा के देवपुरा गाँव में हुआ था । लार्ड कर्जन के दरबार में शामिल होने जा रहे मेवाड़ शासक फतेह सिंह, केसरी सिंह बारहठ द्वारा चेतावणी रा चुगटिंयाँ नामक तेरह सौरठे पढ़कर कर्जन के दरबार में नही गये । सन् 1941 में कोटा में इनका देहान्त हो गया ।

केसरी सिंह बारहठ (Kesari singh barahath) More details 👉 click here

✔️ सन् 1873 में उत्तरप्रदेश के बूलन्दशहर जिले के गुढ़ावली गाँव में जन्मे विजयसिंह पथिक को राज्य में किसान आन्दोलन का जनक कहा जाता है । इनका बचपन का नाम भूप सिंह था । सन् 1916 में बिजोलिया किसान आन्दोलन में प्रवेश किया । इन्होने वर्धा से राजस्थान केसरी समाचार पत्र निकाला । इन्होने 1919 में राजस्थान सेवा संघ स्थापित किया । इनके द्वारा तरूण राजस्थान एवं नवीन राजस्थान नामक दो समाचार पत्रों का प्रकाशन भी किया गया । सन् 1954 में इनका निधन हो गया ।

विजयसिंह पथिक (Vijay singh Pathik) More details 👉 click here
✔️ वागड़ का गाँधी नाम से प्रसिद्ध भोगी लाल पण्डया का जन्म सन् 1904 में हुआ था । सन् 1935 में इन्होने वागड़ सेवा मन्दिर स्थापित किया था । ये सुखाड़िया मंत्रीमण्डल में दो बार मंत्री पद पर आसीन रहे |
भोगी लाल पण्डया (Bhogi Lal Pandya) 👉 click here
✔️ आदिवासियों में बावजी के नाम से विख्यात मोती लाल तेजावत ने सन् 1921 में चित्तौड़गढ़ के मात्रिकुण्डिया नामक स्थान पर एकी आन्दोलन की शुरूआत की थी ।
मोती लाल तेजावत (Moti Lal Tejavat) more details 👉 click here
✔️ हाथल गाँव सिरोही में 25 फरवरी 1899 को जन्में गोकुल भाई भट्ट को राजस्थान का गाँधी कहा जाता है । यह राज्य के एकमात्र ऐसे नेता है जिन्होने कभी भी सरकारी गाड़ी एवं बंगले का उपयोग नही किया । ये राजस्थान प्रदेश कांग्रेस एवं खादी ग्रामोद्योग आयोग के प्रथम अध्यक्ष भी रहे है |
गोकुल भाई भट्ट (Gokul Bhai Bhatt) more details 👉 click here
✔️ आधुनिक राजस्थान का निर्माता एवं मेवाड़ का राजनैतिक सितारा नाम से प्रसिद्ध मोहन लाल सुखाड़िया का जन्म 31 जूलाई 1916 को राजसमन्द जिले के नाथद्वारा के वैश्य परिवार में हुआ था । इन्हे राज्य में सर्वाधिक लम्बे समय तक मुख्यमंत्री रहने का गौरव प्राप्त है | इन्होने 1962 में संभागीय व्यवस्था को समाप्त कर दिया । ये कर्नाटक आन्ध्र प्रदेश एवं तमिलनाडू राज्य के राज्यपाल भी रहे है । ये सन् 1980 में उदयपुर संसदीय क्षेत्र से सांसद निर्वाचित हुए थे ।
मोहन लाल सुखाड़िया (Mohan lal sukhadiya) more details 👉 click here

✔️ खान्दूग्राम (बांसवाड़ा) में जन्मे हरिदेव जोशी एकमात्र ऐसे व्यक्ति है जो निरन्तर 10 बार विधानसभा सदस्य निर्वाचित हुए।
नोट :- सन् 1973 की विधानसभा चुनावों को छोड़ दिया जावे तो भेरो सिंह शेखावत लगातार 10 बार विधायक चुने गये है । किन्तु ये 1973 में जयपुर में पराजित हो गये थे ।

✔️ बारहठ जी का खेड़ा जिसे वर्तमान में देवपुरा भी कहा जाता है । शाहपुरा भीलवाड़ा में स्थित है । इस गाँव में 24 मई 1893 को प्रताप सिंह बारहठ का जन्म हुआ । इनके पिता का नाम केसरी सिंह बारहठ था । इन्होने सन् 1912 में चाँदनी चौक में लार्ड हॉर्डिंग पर बम्ब फैकने में सक्रिय भूमिका अदा की थी । आशानाड़ा (जोधपुर) रेल्वे स्टेशन मास्टर से मिलने गये तब उसने इन्हे धोखे पकड़वा दिया । चार्ल्स क्लीवलैण्ड ने क्रान्तिकारियों का भेद उगलवाने हेतु भीषण यातनाएँ दी । इसके परिणाम स्वरूप सन् 1912 में बरेली जेल में दम तोड़ दिया । प्रताप सिंह बारहठ का कथन था कि “मेरी माता रोती है तो रोने दो, मेरी माता को हंसाने के लिये हजारों माताओं को रूलाना नही चाहता”। केसर सिंह बारहठ ने अपने पुत्र की मृत्यु पर लिखा “मुझे गर्व है कि भारतमाता का सच्चा सपूत उसकी शहादत के लिये शहीद हो गया”
प्रताप सिंह बारहठ (Pratap singh barahath) More details 👉 click here

✔️ काँशी का बास (सीकर) निवासी जमना लाल बजाज का जन्म 4 नवम्बर 1889 को हुआ । इन्हे गाँधीजी का पाँचवा पुत्र एवं गुलाम नम्बर 4 कहा जाता है । पहले तीन गुलाम थे, भारत, देशी राजा एवं सीकर गाँधीजी के नवजीवन समाचार पत्र का समस्त वित्तीय भार इन्होने उठाया । अंग्रेजों द्वारा दी गई “रायबहादुर” के सम्मान को इन्होने वापस लौटा | सन 1927 में जयपुर में बजाज ने चरखा संघ स्थापित किया । बी.एस. देशपाण्डे को चरखा संघ का कार्य सौपा । सन् 1942 में इनका देहान्त हो गया ।
जमना लाल बजाज (Jamana lal Bajaj) more details) 👉 click here
✔️ बिजोलिया के कायस्थ परिवार में जन्में माणिक्य लाल वर्मा ने 1934 में सागवाडा (डगरपुर) में खाण्डलाई आश्रम स्थापित किया । ये तेजस्वी एवं ओजस्वी कविताएँ गाते थे । भोगी लाल पण्ड्या व गौरी शंकर उपाध्याय ने सन् 1935 में वर्मा जी की प्रेरणा से ही वागड़ सेवा मन्दिर की स्थापना की थी । सन् 1938 में वर्मा जी ने मेवाड़ प्रजामण्डल स्थापित किया । इन्होने “पंछीड़ा” गीत की रचना की । 14 जनवरी 1969 को वर्मा जी का निधन हो
गया।
✔️ दा साहब के नाम से विख्यात हरिभाऊ उपाध्याय का जन्म 9 मार्च 1893 को ग्वालियर के भोरासा गाँव में हुआ था । वाराणसी से इन्हाने “औदूम्बर” मासिक पत्रिका का प्रकाशन किया । ये पृथक अजमेर राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री थे । 1927 में इन्होने अजमेर में सस्ता साहित्य मंडल एवं गाँधी सदन स्थापित किया । सन् 1972 में इनका निधन हो गया।
✔️ जोधपुर जिले में जन्मे सुरज प्रकाश पापा ने “वैज्ञानिक बालक” नामक समाचार पत्र निकाला था ।
✔️ स्वामी कुमारानन्द को राजस्थान में ट्रेड युनियन आन्दोलन का जनक माना जाता है । ये चीन गये तथा वहाँ के नेता डॉ. सनयात सेन से मिले थे।
✔️ जोरावर सिंह बारहठ ने 12 दिसम्बर 1912 को चाँदनी चौक दिल्ली में लाई हार्डिग पर बम्ब फैका था । ये फरार होकर वेश बदल कर अमरदास बैरागी के रूप में घुमते रहे | ज्वाला प्रसाद जीज्ञासु एवं जौहरी लाल इन्द्र ने 1934 में “नागरी प्रचारिणी सभा” की स्थापना की । इन दोनों ने मिलकर सन् 1938 में “धौलपुर प्रजामण्डल’ गठित किया । “जागो रे कसाण भाईयों” नामक गीत से अंग्रेजों के विरूद्ध किसानों में जनजाग्रति लाने वाले स्वतन्त्रता सैनानी नवनीत दास वैष्णव थे ।
✔️ राजस्थान में नित्यानन्द जी प्रथम सत्याग्रही थे, जिन्होने 1930 में अजमेर में नमक कानुन तोड़ा ।

✔️ अलवर जिले के निवासी क्रान्तिकारी विश्वम्भर दयाल ने अग्रेजों से लड़ते हुए मोत को गले लगाया । अंग्रेजों ने इनके शव को बहरोड़ नही ले जाने दिया । ऐसी स्थिति में अरूणा आसफ अली ने इस क्रान्तिकारी के शव को अपने कब्जे में लेकर यमुना नदी के तट पर अंतिम संस्कार किया था ।

✔️ शिक्षा संत के नाम से विख्यात स्वामी केशवानन्द का जन्म सन् 1883 में सीकर के मंगलूणा ग्राम में हुआ था । इनके बचपन का नाम “बीरमा” था । इनको केशवानन्द का नाम अवधूत हीरानन्द की देन है ।

✔️ साख्य दर्शन के प्रणेता कपिल मुनी ब्रह्मा के पुत्र महर्षि कर्दम एवं मनु पुत्री देवहुती के पुत्र थे ।

✔️ बठोठ पाटोदा (सीकर) निवासी डूगर जी, जवाहर जी धनवानों से धन लूट कर गरीबों में बाँटते थे, इन्होने 18 जून 1847 को नसीराबाद छावनी पर आक्रमण किया । घोडे एवं 52 हजार रूपये लूट लिये थे । इन्हे ब्रिटीश सरकार ने आगरे के किले में केद् रखा । ऐसे हालातों में करणा मीणा एवं लोहिया जाट ने इन्हें कैद से मुक्त कराया था । डूगर जी, जवाहर जी ने गिरदड़ा गाँव जैसलमेर में आत्म समर्पण किया था ।

✔️ पिल्वा गाँव तहसील डिडवान जिला जोधपुर में जन्मे बालमुकुन्द बिस्सा की मारवाड़ प्रजामण्डल आन्दोलन के दोरान 19 जून 1942 को भूख हड़ताल के कारण मृत्यु हो गई । इन्हे राजस्थान का यतिन्द्र नाथ दास कहा जाता है ।

✔️ वर्तमान राजस्थान, बीसवीं सदी का राजस्थान एवं आधुनिक राजस्थान का उत्थान जैसी पुस्तकों के लेखक रहे रामनारायण चौधरी का जन्म 1896 में नीम का थाना (सीकर) में हुआ । सन् 1936 में इन्होने अजमेर से “नवज्योति” नाम से समाचार पत्र प्रकाशित किया । सन् 1941 में इनकी मृत्यु के उपरान्त इस समाचार पत्र का भार इनके छोटे अनुज कप्तान साहब के नाम से प्रसिद्ध दुर्गा प्रसाद चौधरी ने सम्भाला ।

✔️ हैदराबाद में जन्में गोकुल जी वर्मा की कर्मस्थली भरतपुर रहा । भरतपुर में राजनैतिक जनजागृती का श्रेय इन्हे ही जाता है इन्हे शेर ए भरतपुर कहा जाता है।


Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,587FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles


Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5831