Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835
Geography of Rajasthan (राजस्थान का भूगोल) - gk website
Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835
Home Uncategorized Geography of Rajasthan (राजस्थान का भूगोल)

Geography of Rajasthan (राजस्थान का भूगोल)

0
920

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

राजस्थान का सामान्य भौगोलिक परिचय 

Short Content:-
General geographical introduction of Rajasthan (राजस्थान का भूगोल)-
परिचय-
1. राजस्थान शब्द का पहला उल्लेख 7वीं सदी के बंसतगढ के शिलालेख में मिलता है। यह लेख सिरोही से प्राप्त हुआ है। मारवाड़ इतिहास के प्रसिद्ध लेखक मुहणौत नैणसी ने अपनी ख्यात में भी “राजस्थान” शब्द का उल्लेख किया है।
2. 19वीं सदी में कर्नल जैम्स टॉड ने अपनी रचना “एनाल्स एंड एंटीक्विटीज ऑफ राजस्थान’ में राजस्थान शब्द का प्रयोग किया है। इस पुस्तक का एक अन्य नाम “सेन्ट्रल एंड वेस्टर्न स्टेटस ऑफ इडिंया” है। इस पुस्तक का पहली बार हिन्दी अनुवाद प. गौरीशंकर हीराचन्द औझा ने किया। हिन्दी में इसे “प्राचीन राजस्थान का विश्लेषण” कहा जाता है। हमारे राज्य के लिए सर्वप्रथम राजस्थान शब्द का प्रयोग 25 मार्च 1948 (राजस्थान संघ) को किया गया। ’30 मार्च 1949′ को लगभग राजस्थान का एकीकरण पूर्ण हो गया।
3. इस दिन राजस्थान की चार बड़ी रियासतें जयपुर,जोधपुर,जैसलमेर व बीकानेर को वृहत राजस्थान में मिलाया। इसी कारण 30 मार्च को राजस्थान स्थापना दिवस के रूप में मनाया जाता है। ’26 जनवरी 1950′ को हमारे संविधान में हमारे राज्य के लिए राजस्थान’ नाम दिया गया। ’01 नवम्बर 1956′ को राजस्थान का एकीकरण पूरा हुआ और इस दिन राजप्रमुख के पद को समाप्त किया गया एवं ‘राज्यपाल’ का पद गठित किया गया।

भौगोलिक परिचय-
1. राजस्थान का कुल क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग कि.मी. है। जो कि देश के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का 10.41% है। राजस्थान क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का सबसे बड़ा राज्य है। 1 नवंबर 2000 को जब मध्य प्रदेश से अलग होकर छतीसगढ का गठन हुआ तो उस समय राजस्थान भारत का क्षेत्रफल में सबसे बड़ा राज्य बन गया।
2. यदि बात कि जाए राजस्थान की अवस्थिति की तो यह भारत के उतर-पश्चिम में एक चतुष्कोणीय चतुर्भज की आकृति के रूप में स्थित है। 2011 की जनगणना के अनुसार यहाँ की जनसंख्या 6,86,21,012 है, जो देश की कुल जनसंख्या का 5.67% है।

राज्य के जिले-

Rajasthan Area- 3,42,239 वर्ग कि.मी.
Rajasthan Population-6,86,21,012 (2011 की जनगणना के अनुसार)
Rajasthan District list-Total district- 33

Rajasthan District Map-

26 जनवरी 1950 को हमारे राज्य का नाम संविधानिक रूप से राजस्थान पड़ा। जबकि राजस्थान अपने वर्तमान स्वरूप में 1 नवंबर 1956 को आया। इस समय तक राजस्थान में कुल 26 जिले थे। अजमेर 26वां जिला बना। इसके बाद बनने वाले जिलो का क्रम इस प्रकार से है- 8290033289

संख्या जिला तिथि ————– विभाजन

26वां अजमेर 1 नवंबर 1956 केन्द्र शासित प्रदेश

27वां धौलपुर 15 अप्रेल 1982 भरतपुर

28वां बारां 10 अप्रेल 1991 कोटा

29वां दौसा 10 अप्रेल 1991 जयपुर

30वां राजसमंद 10 अप्रेल 1991 उदयपुर

31वां हनुमानगढ 12 जुलाई 1994 श्रीगंगानगर

32वां करौली 19 जुलाई 1997 सवाई माधोपुर

33वां प्रतापगढ 26 जनवरी 2008 चितौड़गढ,उदयपुर,बांसवाड़ा

क्षेत्रफल की दृष्टि से राज्य का सबसे बड़ा जिला जैसलमेर (38401 वर्ग कि.मी.) है तथा सबसे छोटा धौलपुर (3034 वर्ग कि.मी.) है।

सांस्कृतिक विभाजन-

भौगोलिक नाम ➡ जिले
मेवाड़ उदयपुर, राजसंमद, भीलवाड़ा,प्रतापगढ व चितौड़गढ़
मारवाड़ जोधपुर, नागौर, पाली, बीकानेर,जैसलमेर व बाड़मेर
ढुंढाड़ जयपुर, दौसा, टोंक व अजमेर
हाड़ौती कोटा, बुंदी, बारां व झालावाड़
शेखावाटी चुरू, सीकर व झुंझूनू
मेवात अलवर व भरतपुर
बागड़ डुंगरपुर व बांसवाड़ा

स्थिति एवं विस्तार-

राजस्थान भूमध्य रेखा के ठीक उपर उतरी गोलार्द्ध में स्थित है।
ग्रीनवीच रेखा के सापेक्ष यह पूर्वी गोलार्द्ध में स्थित
राजस्थान का अक्षांशीय विस्तार 23°03‘ उतरी अक्षांश (बोरकुण्ड,कुशलगढ तह., बांसवाड़ा) से 30°12‘ उतरी अक्षांश (कोणा गांव, हिन्दुमलकोट तह., श्रीगंगानगर)तक है।
राज्य का अंक्षांशीय अंतराल 7°09′ है।
उतर से दक्षिण तक राजस्थान की कुल लम्बाई 826 कि.मी. है।
राजस्थान का देशान्तरीय विस्तार 69°30′ पूर्वी देशान्तर (कटरा गांव, फतेहगढ/सम उप तह., जैसलमेर) से 78°17′ पूर्वी देशान्तर (सिलोन गांव,राजाखेड़ा तह., धौलपुर) तक है।
राज्य का देशान्तरीय अंतराल 8°47′ है।
पश्चिम से पूर्व तक राजस्थान की कुल लम्बाई 869 कि.मी. है।

कर्क रेखा (23°30′ उतरी अक्षांश रेखा) राजस्थान के डुंगरपुर-बांसवाड़ा से होकर गुजरती है। बांसवाड़ा शहर इसके सर्वाधिक निकट स्थित शहर है।

सीमा विस्तार-


राज्य की कुल सीमा 5920 कि.मी. है। इसमें से 1070 कि.मी. अन्तर्राष्ट्रीय तथा 4850 कि.मी. अन्तर्राज्यीय है।

14/15 अगस्त 1947 को भारत व पाकिस्तान के मध्य सर सीरील रेडक्लीफ ने एक सीमा का निर्धारण किया जिसे रेडक्लिफ रेखा के नाम से जाना जाता है। यह कागज पर निर्धारित सीमा के नाम से भी जानी जाती है।

राजस्थान के चार जिले (Trick-SBBJ) श्रीगंगानगर, बीकानेर, जैसलमेर व बाड़मेर अन्तर्राष्ट्रीय सीमा का निर्माण करते है। जिन पर सीमा की लम्बाई क्रमशः इस प्रकार है-

जिला ➠ सीमा की लम्बाई

श्रीगंगानगर 210 कि.मी.

बीकानेर 168 कि.मी

जैसलमेर 464 कि.मी.

बाड़मेर 228 कि.मी.

Trick– SBBJ का विस्तार

S = श्रीगंगानगर B = बाड़मेर

B = बीकानेर J = जैसलमेर

रेडक्लिफ रेखा की शुरूआत श्रीगंगानगर के हिन्दुमलकोट से होती है तथा यह शाहगढ के बाखासर गांव तक विस्तृत है।
रेडक्लिफ रेखा पर पाकिस्तान के 9 जिले विस्तृत है।
प्रांत जिले
पंजाब बहावलपुर, बहावलनगर, रहिमयारखान
सिंध घोटकी सुक्कुर खेरपुर संघर उमरकोट थारपारकर

राजस्थान के साथ पाकिस्तान का बहावलपुर सर्वाधिक सीमा बनाता है तथा खैरपुर सबसे कम सीमा बनाता है।

रेड क्ल्फि के सन्दर्भ में पुछे जाने वाले अन्य प्रश्न-

1. राज्य का सबसे बड़ी अंतर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला जिला जैसलमेर (464 कि.मी.)

2. राज्य का न्युनतम अंतर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला जिला बीकानेर (168 कि.मी.)

3. रेडक्लिफ के नजदीक स्थित जिला मुख्यालय श्रीगंगानगर

4. रेडक्लिफ से सबसे दूर स्थित जिला मुख्यालय बीकानेर

5. रेडक्ल्फि पर क्षेत्रफल में सबसे बड़ा जिला जैसलमेर

6. रेडक्ल्फि पर क्षेत्रफल में सबसे छोटा जिला श्रीगंगानगर

राज्य की सीमा से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य-

1. केवल अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाले जिले = 21
2. केवल अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाले जिले = 2 (बीकानेर व जैसलमेर)
3. राज्य के परिधिय जिले = 25
4. अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाले जिले = 23
5. अन्तर्राज्यीय व अन्तर्राष्ट्रीय दोनो सीमाएं बनाने वाले जिले = 2 (श्रीगंगानगर व बाड़मेर)
6. ऐसे जिले जिनकी सीमा दो दो राज्यो से लगती है= 4
हनुमानगढ = पंजाब-हरियाणा
●भरतपुर = हरियाणा-यू.पी.
धौलपुर = यू.पी.-एम.पी.
बांसवाड़ा = एम.पी.-गुजरात
6. राज्य में सबसे पहले सुर्योदय = सिलोन गांव, राजाखेड़ा तह.,धौलपुर
7.राज्य में सबसे अन्त में सुर्यादय = कटरा गांव, सम उप. तह.,जैसलमेर
8.राज्य के खण्डित जिले = 2
अजमेर – टॉडगढ
चितौड़गढ – रावतभाटा

कर्क रेखा बांसवाड़ा की कुशलगढ तह. से होकर गुजरती है। अतः 21 जून को सूर्य की किरणे यहां पर लम्बवत पड़ती है तथा श्रीगंगानगर के कोणा गांव में सबसे तिरछी पड़ती है।

राज्य की अन्तर्राज्यीय सीमा इस प्रकार से है–

1. पंजाब (89 कि.मी.)-

राजस्थान की सीमा पर श्रीगंगानगर व हनुमानगढ स्थित है। श्रीगंगानगर क्षेत्रफल में बड़ा है तथा सीमा के निकटवर्ती है। पंजाब का फाजिल्का व मुक्तसर जिला सीमा पर स्थित है।
2. हरियाणा (1262 कि.मी.)-
राजस्थान के 7 जिलो की सीमा हरियाणा के 7 जिलो (सिरसा, फतेहाबाद, हिसार, भिवाणी, महेन्द्रगढ, रेवाड़ी व मेवात) से लगती है। हनुमानगढ इस सीमा के सबसे निकट तथा जयपुर सबसे दूर स्थित जिला मुख्यालय है। चुरू क्षेत्रफल में सबसे बड़ा तथा झुंझूनू सबसे छोटा जिला है।

3. उतर प्रदेश (877 कि.मी.)-
राज्य के दो जिलो (अलवर व भरतपुर) की सीमा उतर प्रदेश के दो जिलो (आगरा व मथुरा) से लगती है। भरतपुर इस सीमा के निकटतम जिला मुख्यालय व क्षेत्रफल में बड़ा जिला है।
4. मध्य प्रदेश (1600 कि.मी.)-
राजस्थान के 10 जिलो की सीमा मध्यप्रदेश के 10 जिलो (झाबुआ, रतलाम, मंदसौर, नीमच, अगरमालवा, राजगढ, गुना, शिवपुरी, श्यौपुर व मुरैना) से लगती है। इस सीमा के साथ सर्वाधिक सीमा झालावाड़ तथा न्यूनतम सीमा भीलवाड़ा की लगती है। धौलपुर इसका सबसे निकटतम जिला मुख्यालय तथा भीलवाड़ा सबसे दूरस्थ जिला मुख्यालय है। भीलवाड़ा इस सीमा पर क्षेत्रफल में सबसे बड़ा तथा धौलपुर सबसे छोटा जिला है।
5. गुजरात (1022 कि.मी.)-
राजस्थान के 6 जिलो की सीमा गजरात के 6 जिलो (कच्छ, बनासकांठा, साबरकांठा, अरावली, माहीसागर व दाहोद) से लगती है। गुजरात के साथ सर्वाधिक सीमा उदयपुर व न्यूनतम सीमा बाड़मेर की लगती है। इस सीमा के निकटतम जिला मुख्यालय डुंगरपुर तथा दूरस्थ बाड़मेर है। इस सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा जिला बाड़मेर तथा छोटा जिला डूंगरपुर है।

इस प्रकार राजस्थान के पांच पड़ौसी राज्य है। जिनमें सर्वाधिक बड़ी सीमा मध्य प्रदेश की तथा सबसे छोटी सीमा पंजाब राज्य की है। राजस्थान का बाड़मेर सबसे छोटी अन्तर्राज्यीय सीमा बनाता है तथा झालावाड़ सबसे बड़ी अन्तर्राज्यीय सीमा बनाता है।

राज्य के संभाग-

राजस्थान में संभागीय व्यवस्था की शुरूआत 1949 में हीरालाल शास्त्री सरकार द्वारा की गई। अप्रेल, 1962 में मोहनलाल सुखाड़िया सरकार संभागीय व्यवस्था को समाप्त कर दिया गया। 15 जनवरी 1987 को हरिदेव जोशी के द्वारा संभागीय व्यवस्था को पुनः शुरू कर दिया गया।
1987 में अजमेर को राजस्थान का छठा संभाग अजमेर को बनाया गया। 4 जून 2005 को भरतपुर राजस्थान का 7वां संभाग बना। भरतपुर संभाग जयपुर (भरतपुर व धौलपुर) तथा कोटा (सवाई माधोपुर व करौली) से अलग होकर बना।

संख्या संभाग ➜ जिले
1. जयपुर जयपुर, दौसा, सीकर, अलवर तथा झुंझूनू
2. जोधपुर जोधपुर, जालौर, पाली, बाड़मेर, सिरोही व जैसलमेर
3. भरतपुर भरतपुर, धौलपुर, करौली व सवाई माधोपुर
4. कोटा कोटा, बुंदी, बारां व झालावाड
5. उदयपुर उदयपुर, राजसमंद, डुंगरपुर, बांसवाड़ा, चितौड़गढ व प्रतापगढ
6. बीकानेर बीकानेर, गंगानगर, हनुमानगढ व चुरू
7. अजमेर अजमेर, भीलवाड़ा, टोंक व नागौर

संभांगो से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य-

1.अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाले संभाग = 2 (बीकानेर व जोधपुर)
2. सर्वाधिक अन्तर्राष्ट्रीय सीमा बनाने वाला संभाग = जोधपुर

3. अन्तराष्ट्रीय सीमा के निकट स्थित संभागीय मुख्यालय = बीकानेर

4. अन्तर्राष्ट्रीय सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा संभाग = जोधपुर

5. अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाले संभाग = 7

6. सर्वाधिक अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग = उदयपुर

7. न्युनतम अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग = अजमेर

8. अन्तर्राज्यीय सीमा के सबसे निकट स्थित संभागीय मुख्यालय = भरतपुर

9. अन्तर्राज्यीय सीमा के सबसे दूर स्थित संभागीय मुख्यालय = जोधपुर

10. अन्तर्राज्यीय सीमा पर क्षेत्रफल में बड़ा संभाग =जोधपुर

11. अन्तर्राज्यीय सीमा पर क्षेत्रफल में छोटा संभाग = भरतपुर

12. दो बार अन्तर्राज्यीय सीमा बनाने वाला संभाग = उदयपुर

13. राज्य का मध्यवर्ती संभाग = अजमेर

14. सर्वाधिक संभागो की सीमा लगने वाला संभाग = अजमेर (6)

15. सर्वाधिक नदियों वाला संभाग = कोटा

16. न्यूनतम नदियों वाला संभाग = बीकानेर

17. 6 जिलो वाले संभाग = 2 (जोधपुर व उदयपुर)

18. 5 जिलो वाला संभाग = 1 (जयपुर)

19. 4 जिलो वाले संभाग = 4 (बीकानेर, कोटा, अजमेर व भरतपुर)

राजस्थान के भौगोलिक उपनाम-

1.छप्पन का मैदान- प्रतापगढ़ व बांसवाडा में माही नदी के किनारे एवं गांव व नदी नालों का समूह छप्पन का मैदान कहलाता है।

2. कांठल- प्रतापगढ़ में माही नदी के किनारे का क्षेत्र।
3. उपरमाल- बिजौलिया (भीलवाड़ा) से भैसरोडगढ (चितौडगढ़) के मध्य का भू–भाग उपर उठा हुआ होने के कारण उपरमाल कहलाता है।
4. देशहरो- उदयपुर में जरगा एवं रागा पहाड़ियों के बीच का भू–भाग सदा हरा-भरा रहने के कारण देशहरो कहलाता है।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here


Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835

Notice: Function amp_has_paired_endpoint was called incorrectly. Function called while AMP is disabled via `amp_is_enabled` filter. The service ID "paired_routing" is not recognized and cannot be retrieved. Please see Debugging in WordPress for more information. (This message was added in version 2.1.1.) in /home/u793807974/domains/haabujigk.in/public_html/wp-includes/functions.php on line 5835