भारत का भौगोलिक परिचय (Geographical introduction of india)

 भारत का भौगोलिक परिचय  
Geographical introduction of india
 भारत का नामांकन  

where-is-india-on-globe
where-is-india-on-globe
भारत का भौगोलिक परिचय = click here 
✪ सर्वप्रथम हिमालय एवं विंध्य पर्वतो के बीच स्थित भू–भाग को ब्रह्माव्रत अथवा आर्याव्रत कहा जाता था। वैदिक आर्यो का निवास स्थान सिंधु घाटी में था। ऋगवेद के अनुसार उस काल में पांच जनो मे से शक्तिशाली जन भरत के नाम पर इस देश का नाम भारत पड़ा। वायु पुराण के अनुसार भरत राजा दुष्यंत का पुत्र था। बौद्ध काल में इस क्षेत्र को जम्बू द्वीप कहा गया। यूनानी शब्द इण्डोई के नाम से वर्तमान नाम इण्डिया प्रचलन में आया। रोमवासी सिंध नदी को इण्डस तथा इसके आस पास के क्षेत्र को इण्डिया कहते थे।

राजस्थान का जिला दर्शन 👉 click here
राजस्थान का भूगोल 👉 click here
राजस्थान का इतिहास 👉 click here
Rajasthan Gk Telegram channel 👉 click here

भारत के उतर पूर्व में हिमालय, दक्षिण पूर्व में बंगाल की खाड़ी, दक्षिण पश्चिम में अरब सागर, दक्षिण में मन्नार की खाड़ी है। हिन्द महासागर को रत्नाकर कहा जाता था। भारत के भौगोलिक विस्तार में पाकिस्तान, नेपाल, भूटान, म्यांमार, बांग्लादेश जैसे प्रभुत्व सम्पन्न देश होने के कारण इसे भारतीय उपमहाद्वीप कहा जाता है।

अवस्थिति एवं विस्तार

भारत की आकृति चतुष्कोणीय हैं। इसके पूर्व में इण्डो चीन प्रायद्वीप तथा पश्चिम में अरब प्रायद्वीप स्थित है। इसका उतर से दक्षिण में विस्तार 3214 कि.मी. तथा पूर्व से पश्चिम में विस्तार 2933 कि.मी. है। दोनो के बीच 281 कि.मी. का अन्तर है। समुचा भारत मानसूनी जलवायू वाले क्षेत्र में पाया जाता है। इसका कुल क्षेत्रफल 32,87,263 वर्ग कि.मी. है। जिसमें पाकिस्तान द्वारा कब्जाया गया 78,114 वर्ग कि.मी., चीन को प्रदत 5180 वर्ग कि.मी. और चीन द्वारा गैर कानुनी ढंग से कब्जाया गया 37,555 वर्ग कि.मी. क्षेत्र शामिल है। क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत विश्व का सातवां सबसे बड़ा देश है। भारत विश्व के 2.43% भू भाग पर विस्तृत है।

india-ka-vistar
india-ka-vistar

भारत से बड़े शीर्ष 6 देश
देश ⟶ क्षेत्रफल (लाख वर्ग कि.मी. में)
रूस 170.75
कनाडा 99.84
संयुक्त राज्य अमेरिका 96.26
चीन 95.96
ब्राजील 85.12
ऑस्ट्रेलिया 76.86
 भारत की स्थिति   

bharat-vistar-Samay-Rekha
bharat-vistar-Samay-Rekha

अक्षांशो के आधार पर :- भारत का अक्षांशीय विस्तार 8°45′ उतरी अक्षांश (कैप केमरून, कन्याकुमारी, तमिलनाडू) से 37°6° उतरी अक्षांश(इंदिरा पोल/कॉल, गिलगित, जम्मु कश्मीर) तक है। भारत का दक्षिणतम बिन्दु 6°45′ उतरी अक्षांश (पर्सियन पोइंट/पिग्मेलियन पोइंट/ला हि चांग/इंदिरा पोइंट, अण्डमान निकोबार) है।
अक्षांशीय दृष्टि से भारत उतरी गोलार्द्ध में स्थित है। भारत का दक्षिणी भाग उष्ण कटिबन्ध में तथा उतरी भाग उपोष्ण/शीतोष्ण कटिबन्ध में स्थित है।

देशान्तरो के आधार पर :- भारत का देशान्तरीय विस्तार 68°7 पूर्वी देशान्तर (गोर माता/गुहार माता, साबरकांठा, गुजरात) से 97°25° पूर्वी देशांतर (किबिथू, वालांगू कस्बा, त्वांग जिला, अरूणचल प्रदेश) तक विस्तृत है।

प्रमुख रेखाएं

मानक समय निर्धारक रेखा – भारत की मानक समय निर्धारक रेखा 82°30° पूर्वी देशांतर रेखा को कहा जाता है। यह नैनी कस्बा, मिर्जापुर गांव, प्रयागराज, उतर प्रदेश में स्थित है। इसे IST (Indian Standard Time) रेखा कहा जाता है। भारत का मानक समय विश्व के समय से 5 घण्टे 30 मिनट आगे है।

IST (Indian Standard Time) रेखा भारत के 5 राज्यो से गुजरती है-
TRICK UP में छत उड़ी आधी से
उतर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छतीसगढ, उड़ीसा व आन्ध्र प्रदेश
कर्क रेखा – कर्क रेखा (23°30° उतरी अक्षांशीय रेखा) भारत के 8 राज्यो में से गुजरती है।
TRICK गु रू म छ जा प वि त्र म
गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश, छतीसगढ़, झारखण्ड, प. बंगाल, त्रिपुरा व मिजोरम

भारत की सीमाएं

भारत की कुल सीमा 22,716.6 किमी. है। जो स्थलीय सीमा (15,200 किमी.) व जलीय सीमा (7516.6 किमी.) दो भागों में विभक्त है। भारत की जलीय सीमा को मुख्य रूप से दो भागो मुख्य तटीय सीमा (6100 किमी) व द्वीपीय सीमा (1416.6 किमी) में बांटा गया है।

भारत की जलीय सीमा

भारत की तटीय सीमा पर कुल 66 जिले एवं 10 राज्य स्पर्श करते है। इसके अलावा 2 केन्द्र शासित प्रदेश एवं उनके 4 जिले तटीय सीमा को स्पर्श करते है। तटीय सीमा पर सर्वाधिक लम्बाई वाला राज्य गुजरात (1215 कि.मी.) है जबकि सबसे छोटी सीमा वाला राज्य गोवा (151 कि.मी.) है।
अन्तर्राष्ट्रीय समुन्द्री संगठन की व्यवस्था के अनुसार किसी भी देश की जलीय सीमा को 3 भागो में वर्गीकृत किया गया है।

(1) प्रादेशिक जल सीमा – इसे क्षेत्रिय सागर भी कहा जाता है जो आधार रेखा से 12 समुन्द्री मील (नॉटीकल मील) की दूरी तक विस्तृत है। इस क्षेत्र को उपयोग करने का भारत को सम्पूर्ण अधिकार प्राप्त है। आधार रेखा टेढ़े मेढे तट को मिलाने वाली काल्पनिक रेखा है जिसके मध्य के सागरीय जल को आन्तरिक जल कहते है।
(2) संलग्न क्षेत्र- अविच्छिन्न मण्डल या संलग्न क्षेत्र की दूरी आधार रेखा से 24 समुन्द्री मील (1 समुन्द्री मील = 1.8 कि.मी.) तक है। इस क्षेत्र में भारत को साफ सफाई, सीमा शुल्क वसूली और वितीय अधिकार प्राप्त है।
(3) अनन्य आर्थिक क्षेत्र – यह आधार रेखा से 200 समुन्द्री मील की दूरी तक विस्तृत है। इसमें भारत को वैज्ञानिक अनुसंधान, नए द्वीपो की खोज व निर्माण तथा प्राकृतिक संसाधनो के दोहन का अधिकार प्राप्त है।

भारत की तटीय सीमा पर स्थित राज्य

तटीय-सीमा-पर-स्थित-राज्य
तटीय-सीमा-पर-स्थित-राज्य 

पश्चिमी तट (5) – गुजरात (1600 किमी.), महाराष्ट्र, गोआ (101 किमी.), कर्नाटक व केरल
पूर्वी तट (4) – प. बंगाल, उड़िसा, आन्ध्रप्रदेश व तमिलनाडू
सर्वाधिक लम्बी तटीय सीमा वाले राज्य – गुजरात, आन्ध्रप्रदेश, तमिलनाडू
न्यूनतम तटीय सीमा वाले राज्य – गोआ, कर्नाटक
पश्चिमी तट :-
काकरापार तट/गुजरात तट – गुजरात का मैदान सौराष्ट्र से सूरत तक विस्तृत है। भारत पाक के मध्य 24° उतरी अक्षांश/ 24° चैनल/ सरक्रीक विवाद के कारण प्रसिद्ध है। यहां सर क्रीक, कोरी क्रीक, कच्छ का रण तथा खम्भात की खाड़ी स्थित है।

कोंकण तट/महाराष्ट्र तट – यह दमन से गोवा तक फैला है। भारत का सर्वाधिक पेट्रोलियम उत्पादक क्षेत्र बोम्बे हाई यहां स्थित है, जहां से सागर सम्राट नामक जहाज की सहायता से पेट्रोलियम का खनन होता है। भारत का आधुनिकतम बन्दरगाह ज्वाहर लाल नेहरू बन्दरगाह है। जो इस तट पर स्थित है। यहां से भारत का सबसे ज्यादा व्यापार होता है। थालघाट व पालघाट यहां के प्रमुख दर्रे है।

बोम्बे-हाई
बोम्बे-हाई


कन्नड़/कर्नाटक तट – लौह इस्पात उद्योग का सबसे ज्यादा व्यापार न्यू मंग. लौर बन्दरगाह से किया जाता है।
मालाबार तट/केरल तट – भारत में सबसे पहले मानसुन इसी तट पर आता है। यहां लेटेराइट मृदा पाई जाती है जो मसालो व कहवा के उत्पादन के लिए प्रसिद्ध है।
भारत में सर्वाधिक रूप से पाया जाने वाला आण्विक खनिज थोरियम इसी तट पर मिलता है।
मोपला आन्दोलन (केरल) जो नील की खेती करने वाले किसानो के द्वारा किया गया, के लिए यह तट जाना जाता है।
पूर्वी तट :-
कोरोमण्डल/तमिलनाडू तट – उतर पूर्वी मानसुन की सर्वाधिक वर्षा इस तट पर होती है।

उतरी सरकार तट – यह विशाखापतनम में गंगा नदी के तट से महानदी
तक विस्तृत है।

जलसंधि

पाक जलसंधि :- यह तमिलनाडू (भारत) व श्रीलंका के मध्य स्थित है। जो मन्नार की खाड़ी को बंगाल की खाड़ी से जोड़ती है।

मन्नार की खाड़ी :- यह द.पू. तमिलनाडू व श्रीलंका के मध्य स्थित है। सेतु समुन्द्रम परियोजना मन्नार की खाड़ी को पाक खाड़ी से जोड़ती है।

भारत की अर्न्तराष्ट्रीय सीमा
TRICKबचपन में MBA किया
स्त्रोत – मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयरस इन जनवरी 2004
बांग्लादेश :-
सीमा – 4098.7 किमी
सीमावर्ती राज्य – 5 (प.बंगाल, असम, मेघालय, मिजोरम, त्रिपुरा)
चीन :-
सीमा – 3488 किमी. (मैकमोहन रेखा)
सीमावर्ती राज्य – 4 (हिमाचल, उतराखण्ड, सिक्किम व अरूणाचल प्रदेश)
पाकिस्तान :-
सीमा – 3323 किमी. (रड क्लिफ रेखा)
सीमावर्ती राज्य – 3 (पंजाब, राजस्थान व गुजरात)
नेपाल :-
सीमा – 1751 किमी.
सीमावर्ती राज्य – 5
म्यांमार :-
सीमा – 1643 किमी.
सीमावर्ती राज्य – 4
भूटान :-
सीमा – 699 किमी.
सीमावर्ती राज्य – 4
अफगानीस्तान :-
सीमा – 106 किमी. (डुरण्ड रेखा)
सीमावर्ती राज्य – 1

विशेष
डुरण्ड रेखा का निर्धारण 1896 में भारत व अफगानीस्तान के मध्य हुआ।
मैकमोहन रेखा का निर्धारण 1914 में लार्ड मैकमोहन के द्वारा किया गया। यह भारत – चीन – म्यामांर के मध्य सीमा का निर्धारण करती है।
रेड क्लिफ रेखा का निर्धारण 14/15 अगस्त 1947 की मध्यरात्रि को सर एम रेडक्लिफ के द्वारा भारत व पाकिस्तान के मध्य किया गया। परन्तु

इसका क्रियान्वन 15 अगस्त 1947 से माना जाता है।

★ भारत म्यांमार की सीमा का निर्धारण मिसपी, पटकोई, नागा तथा अराकानयोमा की पहाड़ीयो से होता है। भारत के 17 राज्य अन्तर्राष्ट्रीय सीमा को स्पर्श करते है।

भारत के राज्य व केन्द्र शासित प्रदेश

india-update-map
india-update-map

वर्तमान में भारत के 28 राज्य व 8 केन्द्र शासित प्रदेश है।
क्षेत्रफल के आधार पर राजस्थान (3,42,239 वर्ग किमी) भारत का सबसे बड़ा राज्य है तथा गोआ (3702 वर्ग किमी.) सबसे छोटा राज्य है।
जनसंख्या के आधार पर उतर प्रदेश (19.95 करोड़) भारत का सबसे बड़ा राज्य तथा सिक्किम (6.11 लाख) सबसे छोटा राज्य है।
कच्छ (45,652 वर्ग कि.मी.). गुजरात भारत का सबसे बड़ा जिला तथा माहे(9 वर्ग कि.मी.), पाण्डिचेरी भारत का सबसे छोटा जिला है।
Update- भारत के केवल 2 केन्द्र शासित प्रदेश ऐसे है जिनमे विधानसभा है। ये है – दिल्ली व पुडूचेरी

भारत के राज्य व उनकी राजधानीयां

राज्य ⟶ राजधानी

  1. हिमाचल शिमला

  2. पंजाब चंडीगढ

  3. हरियाणा चंडीगढ

  4. राजस्थान जयपुर

  5. गुजरात गांधीनगर

  6. महाराष्ट्र मुम्बई

  7. उतराखण्ड देहरादून

  8. उतर प्रदेश लखनउ

  9. मध्यप्रदेश भोपाल

  10. तेलंगाना हैदराबाद

  11. आन्ध्र प्रदेश अमरावती

  12. कर्नाटक बैंगलुरू

  13. गोवा पणजी

  14. केरल तिरूवन्तपुरम

  15. तमिलनाडू चेन्नई

  16. छतीसगढ रायपुर

  17. उड़िसा भुवनेश्वर

  18. झारखण्ड रांची

  19. बिहार पटना

  20. प.बंगाल कलकता

  21. सिक्किम गंगटोक

  22. असम दिसपुर

  23. मेघालय शिलांग

  24. त्रिपुरा अगरतला

  25. मिजोरम आइजोल

  26. मणिपुर इम्फाल

  27. नागालैण्ड कोहिमा

  28. अरूणाचल प्रदेश ईटानगर

सेवन सिस्टर्स भारत के पुर्वोतर में स्थित राज्यो को सेवन सिस्टर्स के नाम से जाना जाता है। ये निम्न है- असम, अरूणाचल, नागालैण्ड, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम व त्रिपुरा

नोटसिक्किम व मेघालय की सीमा केवल एक एक राज्य से लगती है। मेघालय की सीमा असम से तथा सिक्किम की सीमा प. बंगाल से लगती है।

त्रिपुरा ऐसा राज्य है जो तीन ओर से बांग्लादेश से घिरा हुआ है।

सिक्किम तीन तरफ से अर्न्तराष्ट्रीय सीमा बनाता है।

प्रमुख रेखाएं

22° उतरी अक्षांश रेखा यहां से दक्षिण की ओर भारत संकीर्ण होना शुरू हो जाता है।
24° उतरी अक्षांश रेखा यहां पर भारत व पाकिस्तान के मध्य सरक्रीक सीमा विवाद है।
16° उतरी अक्षांश रेखा यह सहाद्री पर्वत माला को दो बराबर भागो में बांटती है। हिमालय (2500) के बाद सहाद्री (1600) भारत की दूसरी सबसे लम्बी पर्वत श्रंखला है।
10° उतरी अक्षांश रेखा यह अण्डमान व निकोबार द्वीप समुह के मध्य स्थित है।
9° उतरी अक्षांश रेखा यह लक्ष्यद्वीप को मिनीकॉय से अलग करता है।
8° उतरी अक्षांश रेखा यह लक्ष्यद्वीप के मिनीकॉय से मालद्वीव को अलग करता है।
ग्रैण्ड चैनल यह निकोबार व सुमात्रा द्वीप (इण्डोनेशिया) के मध्य स्थित है।
डंकन पास यह दक्षिण अण्डमान व लघु अण्डमान के मध्य स्थित है।
कोको स्ट्रेट यह कोको द्वीप (म्यांमार) को लैण्डफॉल द्वीप (अण्डमान द्वीप) से अलग करता है।

भारत के राज्यो व केन्द्र शासित प्रदेशो का गठन
✪ स्वतंत्रता के समय भारत ब्रिटीश प्रॉविसिन्स व 562 रियासतो में विभाजित था। 26 जनवरी को देश का संविधान लागू होते ही भारत प्रजातंत्र गणराज्य बना।
✪ 1 अक्टुबर 1953 को तेलगु भाषाई लोगो के लिए पहली बार एक अलग राज्य आन्ध्रप्रदेश का गठन भाषा के आधार पर किया गया। इसके बाद राज्य पुनर्गठन अधिनियम 1956 के आधार पर 14 राज्यो व 6 केन्द्र शासित प्रदेशो का गठन किया गया। इस अधिनियम के प्रवर्तन के बाद भी राज्यो के गठन का क्रम आज भी जारी है।
✪ वर्तमान में देश मे 28 राज्य व 8 केन्द्र शासित प्रदेश है।
✪ 1991 में केन्द्र शासित प्रदेश दिल्ली का नाम बदल कर राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली कर दिया गया।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,373FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles